How To Become a Pilot in India After 12th

How To Become a Pilot in India After 12th

How To Become a Pilot in India After 12th

हर किसी के बड़े सपने होते हैं। बहुत से लोग ऐसे हैं जो पायलट (Pilot) बनना चाहते हैं लेकिन उन्हें पायलट बनने का तरीका नहीं पता है। इसलिए आज हम इस पोस्ट के माध्यम से भारत में पायलट बनने की पूरी जानकारी देने जा रहे है। जैसे कि पायलट बनने के लिए कितनी योग्यता होनी चाहिए कितने पैसे खर्च आएंगे इत्यादि।

How To Become a Pilot in India

पायलट (Pilot) बनना इतना आसान नहीं है। पायलट बनने के लिए आपको कठिन परीक्षा पास करनी होगी। तभी आप पायलट (Pilot) बन सकते हैं। और पायलट बनने के लिए आपको अच्छे खासे पैसे भी खर्च करने पड़ेंगे।

पायलट (Pilot) बनने में बहुत खर्च आता है। प्रशिक्षण (Training) के समय, आपको प्रशिक्षण (Training) के लिए हवाई जहाज के किराए का भुगतान करना होगा। जिसकी कीमत 20 से 25 लाख तक हो सकती है।

After 12th Science

पायलट बनने के लिए 12 पास होना चाहिए। 12 वीं में न्यूनतम 50% होनी चाहिए। यह 12 वीं विज्ञान स्ट्रीम के साथ किया जाना चाहिए। विज्ञान में मुख्य विषय गणित, भौतिकी और रसायन विज्ञान होना जरूरी है। इसलिए, पायलट बनने के लिए, आपको 10 वीं से तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

12 वीं के बाद आपको पायलट बनने के लिए SPL के लिए आवेदन करना होगा। SPL का फुल फॉर्म स्टूडेंट पायलट लाइसेंस है।

इस लाइसेंस को प्राप्त करने के लिए, आपको भारत सरकार के DGCA ( Directorate General of Civil Aviation ) के अधीन कॉलेज में प्रवेश लेना होगा और प्रवेश परीक्षा देनी होगी। और इस लाइसेंस को पाने के लिए मेडिकल टेस्ट भी देना होगा।

SPL के लिए योग्यता

  • उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 16 वर्ष होनी चाहिए।
  • 12 वीं में न्यूनतम 50% होनी चाहिए।
  • आंखों की दृश्य शक्ति पूरी होनी चाहिए।
  • ऊंचाई कम से कम 5 फीट होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार भारत के नागरिक होने चाहिए।

PPL Exam के लिए आवेदन करें

PPL का पूर्ण रूप (Private Pilot Licence) है। पायलट बनने के लिए आपके पास PPL परीक्षा का स्पष्ट प्रमाण पत्र होना चाहिए। जैसे ही आप एसपीएल को साफ़ करते हैं, उसके बाद, निजी पायलट लाइसेंस परीक्षा को स्पष्ट करना होगा। यह आपका प्रशिक्षण कदम है। पायलट बनने का यह दूसरा कदम है।

CPL के लिए आवेदन करें

CPL का पूर्ण रूप (commercial pilot license) है। इन दोनों लाइसेंस को प्राप्त करने के बाद, आपको एक वाणिज्यिक पायलट लाइसेंस के लिए आवेदन करना होगा। कुछ परीक्षण और परीक्षाएं भी हैं। इस परीक्षण को 250 घंटे तक उड़ान भरना है। यह सब साफ़ करने के बाद आपको पायलट कहा जाएगा।

पायलट का सैलेरी

पायलट को बहुत अधिक सैलेरी दिया जाता है। जो पायलट की योग्यता और मांग पर आधारित है।

  1. प्रथम अधिकारी (जूनियर स्तर) – रु 1,00,000 या अधिक
  2. प्रथम अधिकारी (वरिष्ठ स्तर) – रु 1,80,000 या अधिक
  3. कमांडर – रु 2,50,000 या अधिक

दोस्तों मुझे उम्मीद है कि आपको भारत में पायलट बनने की जानकारी पसंद आई होगी।

इन्हें भी पढ़े:-

Leave a Comment

error: Content is protected !!