पढ़ते समय नींद से कैसे बचें?

पढ़ते समय नींद से कैसे बचें - How To Avoid Sleep While Studying IN Hindi

पढ़ते समय नींद से कैसे बचें : इस लेख हम पढ़ते समय नींद आये तो क्या करे और पढ़ते समय नींद क्यों आती है इन सभी की जानकारी देने वाले हैं तो ध्यान से इस लेख को पढ़े धन्यवाद।

पढ़ते समय नींद से कैसे बचें?

दोस्तों किसी भी सब्जेक्ट को पढ़ते वक्त नींद इसलिए आती है कि हम चुपचाप पढ़ते हैं अगर गणित भी कर रहे हैं तो चुपचाप रहे हैं लेकिन गणित के केस में क्या होता है आंसर आते है तो ठीक है लगातार चल रहा है बस जैसे ही आंसर नहीं आए एक क्वेश्चन के बाद 50% नींद आना शुरु दूसरा नहीं आया तो समझ लो सो गए अगर थ्योरी में इंटरेस्ट नहीं है तो पहला पेज पढ़ा की नहीं नींद आना शुरू बंद किया सो गए।

पढ़ते समय नींद से कैसे बचें?

सुबह उठाओ फिर वही से शुरू तो पढ़ते वक्त मेरी एक बात ध्यान में रख लेना कि जब तुम नहीं पढ़ रहे हो तो उस टाइम कोई दूसरा कोई पढ़ रहा होगा और जिस दिन वह तुमसे मिलेगा वह तुमसे जीत जाएगा यह हर एक स्टूडेंट्स के साथ होता है इस दुनिया में दो टाइप के स्टूडेंट्स होते हैं एक होते हैं Competitor और दूसरा होता है Idol Idol था वो रंचोर दास चंचल वो था Idol लेकिन Idol फिल्मो या लाखों करोड़ों में एक ही स्टूडेंट्स होता है लेकिन उसके बाद जितने भी स्टूडेंट्स होते हैं वह सारे Competitor ही होते हैं उस फिल्म में जब साइलेंसर का रोल दिखाया जाता था तो बैकग्राउंड कुछ ऐसा म्यूजिक चलाया जाता था जहां हमे हंसी आती थी क्योंकि सारा खेल इस म्यूजिक का ही है अगर इमोशनल म्यूजिक चलाया तो हम रोने लगते हैं और कॉमेडी म्यूजिक चलाया तो सामने वाला मर भी रहा हो फिर भी हमे हंसी आती हैं तो कुछ ऐसा उस साइलेंसर को रिप्रेजेंट किया गया।

पढ़ते समय नींद क्यों आती है?

पर मैं आपको बता दूं कि दुनिया में आज कितना है कह ले नहीं भाई मैं तो Idol हूं दुनिया में हर स्टूडेंट्स Competitor है मैं भी एक Competitor हूं मेरे भी Competitor होंगे तो हमे एक बात ध्यान में रखनी है कि जब हम नहीं पढ़ रहे हैं तो कोई और पढ़ रहा होगा जिस दिन वह हमसे मिलेगा वो जीत जाएगा। पढ़ने में थोड़ा बदलाव भी लाइए जैसे परीक्षा के टाइम पर आप एक ही सब्जेक्ट सुबह से शाम तक तरीके से पढ़ सकते हो। कि अगर आप देर रात तक नहीं पढ़ पा रहे कोई बात नहीं 10:00 बजे से लेकर 1:00 बजे तक 3 घंटे एक Paper Solved करो, मैं जानता हूं कि पहला Paper Solved करने में आपको बहुत दिक्कत होगी यहां तक की होगा ही नहीं बोलेगा यार 1 घंटे भी हो गया कुछ आई नहीं कोई बात नहीं करो सो जाओ, सुबह उठो और उस पर कि चैकिंग करो सारे क्वेश्चन चेक करो Solution के साथ कहां पर गलती हुई क्या हुआ क्या नहीं हुआ इस तरीके से हम पढ़गे तो बहुत कुछ बदलाव आ सकता है।

अपने आप को लालच दो यार अगर तुम 3 घंटे पढ़ोगे तो मेरी तरफ से डॉल्फिन में पार्टी या फिर ये चीजें खिलाउंगा खुद कीजिये ये बाते. मैं जानता हूँ की यह सारी बातें खुद से कर रहा हूँ हमें खुद से लड़ना पड़ेगा और जब आप 3 घंटे पढ़ लेते हैं तो जब आप घर से निकलते हैं ना तो ₹50 या ₹100 खर्च करने में आपको एक % भी Doubt नहीं होता की चल यार ये तो मेहनत के है भाई 3 घंटे पढ़के आया हूँ मैं।

पढ़ते समय नींद आये तो क्या करे

बहुत से बच्चे सोचेगे सर यह सारी बातें मैं सुनता आ रहा हूं और इन सब से कोई काम नहीं चल पाया मेरा आज तक तो मैं आज तुम्हें यहां पर आपको कहना चाहूंगा कि दोस्त थोड़ा सा टेक्निकल होना पड़ेगा क्योंकि जब आप अकेले में पढ़ रहे होते तो बहुत से मन में विचार आने लगते हैं तो इसकी जगह ऐसा कर सकते हैं आप ऐसे रूम में बैठ कर पढ़िए जहां पर ज्यादा शोर ना हो लेकिन माँ या फिर कोई भाई या बहन आसपास गुजर रहे हो बार-बार आपको Disturb नहीं कर रहे है बस से गुजर रहे हैं या फिर आपकेे सामने आकर बैठ गए मैंने ऐसा कोई स्टूडेंट्स नहीं देखा जो चुपचाप बैठकर एकदम कान बंद करके उसे कोई आवाज़ नहीं आनी चाहिए तभी उसे वह शब्द याद होगा।

अगर कोई भाई, बहन, पापा साथ में बैठे हो बीच-बीच में थोड़ा बहुत बातें भी हो सकती है मैंने ऐसा देखा है और यह कारगर भी है मेरे दोस्त आप मेरी इस बात को मानिए और अप्लाई करिए अकेले में चुपचाप बैठने से कहीं ज्यादा बैहतर कोई साथ में बैठकर थोड़ा बहुत बात भी कर रहा है वह कहीं ज्यादा कारगर है 10% नहीं 80% से 90% ज्यादा इफेक्टिव है आप कोशिश तो करके देखिए एक बार इसे नींद भी नहीं आएगी सामने कोई बात कर रहा है एक क्वेश्चन पड़ा और उसको ही दे दिया चल तु सुन।

कुछ ना करने से कुछ कर लेना ज्यादा बेटर होता है वह किसी ने कहा भी है कि हवा में ताश का घर नहीं बनता रोने से बिगड़ा मुकद्दर नहीं बनते दुनिया जीतने का हौसला रखें दोस्त एक जीत से कोई सिकंदर नहीं बनता तो शुरुआत करिए क्योंकि स्वामी विवेकानंद का कहना है कि अच्छे विचार का निर्माण हजारों बार ठोकर खाने के बाद ही आता है मेरा मानना है कि धन दौलत और शान और शौकत अपने आप नहीं आते हैं कमाना पड़ता है मैं जानता हूं कि Motivation बस 5 मिनट का होता है लेकिन खुद से किया हुआ वादा जिंदगी भर याद रहता हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!